प्यारे पथिक

जीवन ने वक्त के साहिल पर कुछ निशान छोडे हैं, यह एक प्रयास हैं उन्हें संजोने का। मुमकिन हैं लम्हे दो लम्हे में सब कुछ धूमिल हो जाए...सागर रुपी काल की लहरे हर हस्ती को मिटा दे। उम्मीद हैं कि तब भी नज़र आयेंगे ये संजोये हुए - जीवन के पदचिन्ह

Saturday, October 17, 2009

जितना संभव हो पथ आलोकित करें (दीवाली शुभकामनाएँ)



जिस प्रकार दीपावली के असंख्य दीपो के अथक और निस्वार्थ श्रम से तिमिर प्रभावहीन हो जाता और अमावस की रात भी पूनम के तरह मधुर लगती हैं. उसी प्रकार आपका जीवन भी निस्वार्थ और अथक मानवीय श्रम से यश और कीर्ति की ज्योत्सना से आलोकित होकर अज्ञान और दारिद्रय के तमस पर विजय प्राप्त करे.  इसी कामना के साथ आज की कविता आपको समर्पित है.  


दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ
* ~ * ~ * ~ * ~ * ~ * ~ * ~ * ~ * ~ *


 अमावस की काली रातों में
जगमग तारों सा ह्रदय धरें,
चन्द्र-राह ताकें क्योंकर हम,
जितना संभव हो पथ आलोकित करें

देवालय आलोकित किए कई,
आओ अब कुछ यूँ जलें
तूफानों से जूझती जो कश्ती,
उसके हम आशा-दीप बने

कितने घट जो अब भी हैं रीते-अंधियारे
अज्ञान-पाश में फँसकर खुद से भी हारे
उनकी सूनी चौखट को रौशन करने को,
आओ हम सप्त-सुरों  के ज्योति-गीत बने

जितना संभव हो पथ आलोकित करें !!

9 comments:

  1. सुन्दर रचना..

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    सादर

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  2. अति उत्तम काव्य.......

    वाह !


    आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की

    हार्दिक बधाइयां

    ReplyDelete
  3. यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।
    युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।।
    रोशनी से इस धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    ReplyDelete
  4. दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना !!
    पल पल सुनहरे फूल खिले , कभी न हो कांटों का सामना ! जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे , दीपावली पर हमारी यही शुभकामना !!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर । शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  7. sundar ati sundar.....jitna ho sake path aalokit kare waah bahut khoob

    ReplyDelete
  8. Sudhir Really aapki hindi bahut achchi hai.....ham sirf is rachna ki baat nahi kar rahe.....hamesha padhte hai aapko...aap sach mein shabdo se jadoo karte hai......Diwali ki shubh kaamnaye

    ReplyDelete
  9. सुंदर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete

Blog Widget by LinkWithin